gharelu upay

खाँसी-जुकाम से मुक्ति का उपाय

आईये जानते हैं खाँसी-जुकाम से बचने और उसे ठीक करने के उपाय। वातावरण में परिवर्तन से प्रायः खाँसी-जुकाम होना सामान्य सी बात है । अनेक व्यक्तियों को बात-बात पर जुकाम होता है और तुरन्त ध्यान न दिये जाने पर बढ़ जाता है तथा कष्टकारी होता है । जुकाम अनेक बार […]

Satyanashi: सत्यानाशी के लाभ एवं हानि

सत्यानाशी का सामान्य परिचय हमारे परिवेश में बहुत से ऐसे बहुमूल्य औषधीय पौधे हैं जो खरपतवार के रूप में यत्र-तत्र दिख जाते हैं । इनको कोई बोता नहीं, सेवा नहीं करता। फिर भी उगते हैं, बढ़ते हैं । समय आने पर फूलते-फलते हैं । आयुर्वेद के जानकार इनके औषधीय गुणों […]

गुड़हल (Hibiscus) के औषधीय गुण

हम सभी के घर में या हमारे आसपास हमारे परिवेश में हमने लाल गुड़हल (hibiscus) अवश्य देखा होगा। हम इसे शोभाकारी पौधे के रूप में जानते हैं और इसके फूल मंदिर में देवी-देवता को चढ़ाये जाते हैं, ये बात जानते हैं। परन्तु हममें से बहुत लोग यह नहीं जानते होंगे […]

अंगूर – Grapes स्वास्थ्य के लिए उत्तम फल

अंगूर(द्राक्षा/दाख/Grapes) से हम सभी परिचित हैं। आज हम यह जानेंगे कि अंगूर के विषय में आयुर्वेद क्या कहता है? और यह स्वास्थ्य के लिये किस प्रकार लाभकारी है? अंगूर एक फल है। आयुर्वेद में इसकी गणना ‘फलवर्ग’ के अन्तर्गत होती है। अष्टांगहृदयम् में द्राक्षा अर्थात् अंगूर को फलों में उत्तम […]

भटकटैया का काढ़ा: खाँसी के लिए रामबाण

भटकटैया, कण्टकारी (Yellow Berried Night shade) परित्यक्त स्थानों पर, सड़क के किनारे, बाग-बगीचों में अपने आप उगने वाला पौधा है। इसे भटकटैया इसलिये कहते हैं क्योंकि इसके पत्ते भांटा अर्थात् बैंगन जैसे होते हैं और इसके तने तथा पत्तों पर काँटे होते हैं। फल भी दूर से बैगन की प्रजाति […]

अपानवायु/Fart रोकने से होने वाला दुष्प्रभाव

अपानवायु, छींक, खाँसी आदि शारीरिक वेगों को नहीं रोकना चाहिये। आयुर्वेद में इन्हें रोकने का निषेध है। इन वेगों के रोकने से अनेक समस्यायें उत्पन्न हो सकती हैं । जिनमें से कुछ बहुत कष्टदायी भी हो सकती हैं । अतः यह जानना आवश्यक है कि अपानवायु रोकने से क्या – […]

कुल्फा: एक पोषक शाक

कुल्फा को लोणी या लोनी भी कहते हैं क्योंकि यह स्वाद में हल्का खट्टा व नमकीन होता है। वसन्त के बाद ग्रीष्मकाल में यह अपने आप सूखी, परित्यक्त भूमि पर उग आता है। खरबूजे के खेत में या ग्रीष्म ऋतु में होने वाली भिंडी आदि किसी भी शाक-सब्जी के खेत […]

लम्बे समय से आँखों में लालिमा एवं जलन (conjunctivitis) दूर करने हेतु का सरल उपचार

ग्रीष्म और शीत ऋतु में प्रायः आँखें धूप और ठंड के कारण लाल हो जाती है और उनमें खुजली, जलन व पीड़ा भी होने लगती है। कई बार चिकित्सक के पास जाने और सामान्य चिकित्सा से आँख स्वस्थ हो जाती है परन्तु कई बार सभी प्रकार की चिकित्सा के बाद […]

सहदेईया । सहदईया । सहदेई। सहदेवी। Vernonia cinerea का परिचय

हमारे आसपास बहुत से औषधीय पौधे हैं, जिनका परम्परागत रूप से रोग-व्याधि-चिकित्सा में हम उपयोग करते आये हैं। इनके चमत्कारिक प्रभाव को भी हम जानते हैं। इन पौधों और वनस्पतियों का आयुर्वेद में वर्णन भी प्राप्त होता है। ऐसा ही एक औषधीय पौधा है ‘सहदेईया/सहदेवी’। यह उस भूमि पर जो […]