Tag: Ashtangahridaya

आयुर्वेद के अनुसार दही के गुण एवं सेवनविधि

दूध, दही, मट्ठा (छाछ), पनीर, मक्खन, घी आदि शाकाहारियों के लिये कैल्शियम और वसा के प्रधान स्रोत हैं। आजकल इन पदार्थों की माँग दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। आजकल पैकेटबन्द दूध, दही, मक्खन, छाछ बाजार […]

खाँसी-जुकाम से मुक्ति का उपाय

आईये जानते हैं खाँसी-जुकाम से बचने और उसे ठीक करने के उपाय। वातावरण में परिवर्तन से प्रायः खाँसी-जुकाम होना सामान्य सी बात है । अनेक व्यक्तियों को बात-बात पर जुकाम होता है और तुरन्त ध्यान […]

काला तिल खायें: दाँत मजबूत बनायें

हम सभी जानते हैं कि तिल दो प्रकार का होता है काला तिल एवं सफेद तिल। तेल शब्द भी तिल शब्द से ही उत्पन्न हुआ है।आयुर्वेद के वाग्भट रचित ग्रंथ ‘अष्टांगहृदयम्‘ में काल तिल को […]

आयुर्वेद के आठ अंग : विशद विवेचन

  भारतीय चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद के नाम से जानी जाती है। अथर्ववेद का एक उपवेद भी आयुर्वेद है। आचार्य चरक के अनुसार जिस शास्त्र में हित-आयु, अहित-आयु, सुख-आयु, दुःख-आयु का वर्णन प्राप्त हो एवं आयु […]