Tag: दिनकर

श्रीसूर्यसहस्रनामस्तोत्रम्

शतानीक उवाच नाम्नां सहस्रं सवितुः श्रोतुमिच्छामि हे द्विज।येन ते दर्शनं यातः साक्षाद् देवो दिवाकरः॥1॥ सर्वमङ्गलमाङ्गल्यं सर्वपापप्रणाशनम्।स्तोत्रमेतन्महापुण्यं सर्वोपद्रवनाशनम्॥2॥ न तदस्ति भयं किञ्चिद् यदनेन न नश्यति।ज्वराद्यैर्मुच्यते राजन् स्तोत्रेऽस्मिन् पठिते नरः॥3॥ अन्ये च रोगाः शाम्यति पठतः शृण्वतस्तथा।सम्पद्यन्ते यथा […]

वैशेषिक दर्शन के प्रमुख आचार्य एवं उनके ग्रन्थ

वैशेषिक दर्शन: सामान्य परिचय भारतीय दर्शन परम्परा के अंतर्गत षड्दर्शन में वैशेषिक एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है । वैशेषिक दर्शन का परमाणुवाद सृष्टि की अत्यंत वैज्ञानिक परिकल्पना प्रस्तुत करता है । वैशेषिक दर्शन के प्रवर्तक […]