Tag: आयुर्वेद के अनुसार मल रोकने से होने वाले रोग

मल-मूत्र का वेग रोकने से होने वाले रोग

आयुर्वेद के अनुसार मल-मूत्र, अपानवायु (Fart), छींक, भूख, प्यास, नींद, खाँसी, परिश्रम करने से साँस में आयी तेजी, जम्हा/जँभाई, आँसू और उल्टी आदि की इच्छा उत्पन्न होने पर उसे रोकना नहीं चाहिये। शुक्र का वेग […]