Category: Uncategorized

शिलोञ्छवृत्ति

रश्मिरथी के दूसरे सर्ग में रामधारी सिंह ‘दिनकर’ जी ने ‘शिलोञ्छवृत्ति’ शब्द का प्रयोग किया है। “ब्राह्मण का है धर्म त्याग, पर, क्या, बालक भी त्यागी हों?जन्म साथ, शिलोञ्छवृत्ति के क्या वे अनुरागी हों?” प्रथम […]

आंग्ल-मैसूर युद्ध

प्रथम आंग्ल मैसूर युद्ध (1767-1769) द्वितीय आंग्ल मैसूर युद्ध (1780-84)वारेन हेस्टिंग्स तृतीय आंग्ल मैसूर युद्ध (1790-92)श्रीरंगपट्टनम की संधिकार्नवालिस – टीपू सुल्तान चतुर्थ आंग्ल मैसूर युद्ध (1799)लार्ड वेलेजली – टीपू सुल्तान

औरंगजेब के उत्तराधिकारी

मुअज्जम(बहादुर शाह) (1707-1712) शाह ए बेखबर जहाँदार शाह(1712-1713) फर्रुखसियर(1713-1719) रफी उद दरजात(1719) रफी उद दौला(1719) मुहम्मद शाह(1719-1748) अहमद शाह(1748-1754) आलमगीर द्वितीय(1754-1759) शाह आलम द्वितीय(1759-1806) अकबर द्वितीय(1806-1837) बहादुर शाह द्वितीय (1837-1862)

आर्थिक समीक्षा 2020 – 2021

साभार PIB वर्ष 2021-22 में भारत की वास्‍तविक जीडीपी वृद्धि दर 11 प्रतिशत और सांकेतिक जीडीपी वृद्धि दर 15.4 प्रतिशत रहेगी, जो देश की आजादी के बाद सर्वाधिक है। व्‍यापक टीकाकरण अभियान, सेवा क्षेत्र में […]

गोस्वामी तुलसीदास विरचित “रुद्राष्टकम्”

नमामीशमीशान निर्वाणरूपंविभुं व्यापकं ब्रह्म वेदस्वरूपं।निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहंचिदाकाशमाकाशवासं भजेऽहं।। १।। निराकारमोङ्कारमूलं तुरीयंगिरा ग्यान गोतीतमीशं गिरीशं।करालं महाकाल कालं कृपालंगुणागार संसारपारं नतोऽहं।। २।। तुषाराद्रि संकाश गौरं गभीरंमनोभूत कोटि प्रभा श्री शरीरं।स्फुरन्मौलि कल्लोलिनी चारु गंगालसद्भालबालेन्दु कंठे भुजंगा।। ३।। […]

दूसरे राज्यों में फंसे लोगों के लिए चलेंगी स्पेशल ट्रेन

  कोरोना से संबंधित ताजा ख़बरों के लिए क्लिक करें  कृपया ध्यान दें अगर आप नीचे दिए गए राज्यों से UP आना चाहते हैं तो नीचे दिए राज्यों के पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन कराएं. धीरे […]

बड़हल/बड़हर खाने में सावधानी

बड़हर (लकुच) एक फल है। जिसका अचार भी बनाया जाता है। अष्टांगहृदयम् के अनुसार बड़हर का फल अधम गुणों वाला होता है तथा यह वात-पित्त-कफ आदि सभी दोषों को उभारने वाला होता है। –“फलानामवरं तत्र […]

चेहरे की झाईं कैसे दूर करें

झाईं होने का कारण एवं लक्षण:- चिड़चिड़ापन, शोक एवं क्रोध के कारण उभरे वात-पित्त दोषों के प्रकोप से मुखमंडल पर साँवला चकत्ता पड़ जाता है। उसी को झाईं कहते हैं। आयुर्वेद में इसे ‘व्यङ्ग’ कहते […]

इन वेगों को रोकना हो सकता है घातक

शरीर में उत्पन्न होने वाले विभिन्न वेगों को न रोकें ऐसा आयुर्वेद बार-बार कहता है।फिर भी लोग किसी न किसी कारण से उन वेगों को रोकते हैं और गंभीर बीमारियों को उत्पन्न होने का रास्ता […]

शोभांजन (सहजन) खायें: स्वस्थ बनें

  👉यदि आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है तो सहजन को भोजन में शामिल करें।👉यदि आप कैल्शियम की कमीं का सामना कर रहे हैं तो सहजन का सेवन करें।👉यदि आप रक्ताल्पता (एनीमिया)से पीड़ित हैं तो […]