हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ): कोरोना में दी जा रही दवा की सामान्य जानकारी

इस समय कोविड-19 के कारण मलेरिया में दी जाने वाली दवा हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन बहुत चर्चा में है। इसका उपयोग आटोइम्यून रोगों में भी किया जाता है । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अनुरोध पर भारत, अमेरिका सहित विश्व के कोरोना प्रभावित देशों को हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन की आपूर्ति कर है।

प्रत्येक व्यक्ति इसको लेकर आशान्वित है और जिज्ञासु भी है ।अतः यह जानना आवश्यक है कि वस्तुतः हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन है क्या? क्या यह कोविड-19 को रोकने अथवा उसका उपचार करने में सक्षम है? किन रोगों में इसका प्रयोग होता रहा है? किस प्रकार के रोगियों को यह दवा हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन दी जा सकती है? इन शंकाओं का समाधान आवश्यक है।

हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) है क्या?

हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) एक दवा है जो विशेषकर मलेरिया में दी जाती है।

क्या हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) कोविड-19 के रोकथाम एवं उपचार में प्रभावी है?

अभी हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) को कोविड-19 से बचाव के लिये प्रभावी माना गया है । अर्थात् यह मान्यता है कि इसको खाने से कोविड-19 संक्रमण से बचा जा सकता है ।

यह मान्यता अभी केवल प्री-क्लीनिकल अध्ययन के आधार पर है।अभी इसका कोई ठोस प्रमाण नहीं है कि यह दवा वास्तव में कोविड-19 से बचाव करती है ।
ध्यान रहे कि अभी तक कोविड-19 की कोई भी दवा बनाने में सफलता नहीं मिली है इसीलिए केवल असाधारण परिस्थितियों में जब मरीज के बचाव के लिये कोई दूसरा विकल्प न हो तब हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) के प्रयोग की सलाह दी जाती है ।

क्या हमारे देश में हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) की पर्याप्त उपलब्धता है?

हमारे देश में हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) वर्तमान में पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है और भविष्य में भी यह दवा उपलब्ध रहेगी ।
Note:-भारत के पास हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन का स्टाक इसलिए भी रहता है क्योंकि यहाँ प्रतिवर्ष अनेक भागों में मलेरिया फैलता है।

किन लोगों को यह दवा देनी चाहिये/ग्रहण करनी चाहिये?

कोविड-19 के लिए बनायी गयी नेशनल टास्क फोर्स के अनुसार यह दवा केवल उन लोगों को प्रयोग करना चाहिए जो बहुत ही विपरीत खतरनाक परिस्थितियों में काम कर रहे हैं जैसे-
वे स्वास्थ्यकर्मी डाक्टर, नर्स, सफाई कर्मचारी व हेल्पर आदि जो कोविड-19 के मरीजों का इलाज और देखभाल कर रहे हैं ।
वह व्यक्ति जो कोविड-19 संक्रमित व्यक्तियों अथवा संक्रमण के संदिग्ध व्यक्तियों के साथ घर पर रहकर उनकी देखभाल कर रहा हो।

किन लोगों को यह दवा नहीं देनी चाहिये/नहीं ग्रहण करनी चाहिये?

यह उन बच्चों को नहीं ग्रहण करनी चाहिये जिनकी आयु 15 वर्ष से कम है।
वे व्यक्ति जो रेटिनोपैथी( डायबिटीज के कारण आँखों पर होने वाले दुष्प्रभाव) से पीड़ित हों या जिनको हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) में पाये जाने वाले एक तत्व अमीनो-क्यूनोलीन से एलर्जी हो।
डायबिटीज के मरीजों को भी ये दवा नहीं लेनी चाहिये।
हृदय रोगियों को भी यह दवा नहीं देनी चाहिये ।उनके लिये यह हानिकारक साबित हो सकती है ।

इसके उपयोग में सावधानियाँ:-

यह दवा स्वयं स्वेच्छा से कदापि न लें। परिणाम गंभीर हो सकते हैं
कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि बिना किसीलक्षण के हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन लेना खतरनाक हो सकता है क्योंकि सिरदर्द, दस्त, उल्टी, चक्कर आना, भूख न लगना, पेटदर्द और त्वचा में जलन तथा त्वचा लाल होना, चकत्ते पड़ना इसके सामान्य दुष्प्रभाव (side effects) हैं। इसके बहुत अधिक सेवन से व्यक्ति बेहोश भी हो सकता है ।

उन लोगों को इसे लेने की आवश्यकता नहीं है जो कोविड-19 से संक्रमित व्यक्तियों से किसी प्रकार संपर्क में नहीं आये हैं ।
इस दवा के कुछ साइस इफेक्ट भी हैं इसलिए इस दवा का विक्रय केवल पंजीकृत मेडिकल स्टोरों द्वारा ही हो सकता है ।
स्वास्थ्यकर्मियों एवं रोगियों की देखभाल कर रहे लोगों को यह बात ध्यान रखना चाहिये कि यह दवा पूरी तरह सुरक्षित नहीं है अतः इस दवा के सेवन से स्वयं को पूर्णतः सुरक्षित नहीं मानना चाहिये बल्कि सुरक्षा के सभी नियमों एवं सभी स्वास्थ्य उपायों का पालन करना चाहिए ।
यह दवा लेने वाले व्यक्तियों को यदि स्वयं में कोरोना के लक्षण दिखाई देते हैं तो तुरंत जाँच करानी चाहिये और सभी प्रकार की सावधानी बरतनी चाहिये।
स्वास्थ्य मंत्रालयद्वारा हाइड्राॅक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) पर जारी किये गये दिशानिर्देश को पढ़ें।

सन्दर्भ : https://www.mohfw.gov.in/

 

Leave a Reply