गुड़हल (Hibiscus) के औषधीय गुण

गुड़हल के फूल खाने से क्या फायदा है ? 

हम सभी के घर में या हमारे आसपास हमारे परिवेश में हमने लाल गुड़हल (hibiscus) अवश्य देखा होगा। हम इसे शोभाकारी पौधे के रूप में जानते हैं और इसके फूल मंदिर में देवी-देवता को चढ़ाये जाते हैं, ये बात जानते हैं। परन्तु हममें से बहुत लोग यह नहीं जानते होंगे कि गुड़हल का औषधि के रूप में उपयोग भी होता है।

लाल गुड़हल के औषधीय प्रयोग


👉आप पूरी तरह स्वस्थ हों तो भी गुड़हल के फूल को धोकर खा सकते हैं।

👉गुड़हल का फूल रेचक अर्थात शरीर से व्यर्थ तत्वों को बाहर निकालने वाला होता है। इसीलिए इसे खाने पर यह चिकना लिजलिजा लगता है। रेचक होंने के कारण यह पाचन और कब्ज में लाभदायक है। इसके सेवन से मलत्याग में कठिनाई नहीं होती।

👉रेचक होंने से यह महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए भी बहुत उपयोगी है। इसके सेवन से अनियमित मासिक धर्म की समस्या दूर होती है।

👉 यह गर्भाशय को मजबूती प्रदान करता है।

👉यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है अतः ग्रीष्म ऋतु में शर्बत के लिये बेल, खसखस आदि के साथ गुड़हल का फूल भी पीसकर पीते हैं।

👉इसके सेवन से खाँसी, जुकाम, बुखार में राहत मिलती है। यही कारण है कि यूनानी दवा ‘जोशान्दा’ में गुड़हल के फूल का प्रयोग किया जाता है। इसमें विटामिन सी का प्रचुर भंडार होता है जो हमारी प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करने में सहायक होता है. 

👉जिन लोगों को अनिद्रा की समस्या है उन्हें भी गुड़हल के पुष्प के नियमित सेवन से राहत मिलती है।

👉इसके सेवन से पाचन-संस्थान मजबूत होता है।

👉यह अवसाद अर्थात् डिप्रेशन दूर करने में भी उपयोगी है।

👉त्वचा विकार में भी यह उपयोगी है। इसकी पत्तियों को पीसकर बालों में कंडीशनर की तरह उपयोग में लाया जा सकता है।

👉पाचन सही रखने से रह वजन नियंत्रण और मोटापा कम करने में भी सहायक है।

गुड़हल के प्रयोग में सावधानी

👉रेचक प्रकृति का होने के कारण यह गर्भवती महिलाओं के सेवन योग्य नहीं है क्योंकि उससे गर्भपात की आशंका है।

👉साथ ही किसी प्रकार की सर्जरी होंने पर जब तक वह ठीक न हो, इसका सेवन उचित नहीं है।

गुड़हल सेवन के तरीके :

  • सीधे फूल तोड़कर धुलकर खाया जा सकता है।
  • फूल को सुखाकर पावडर बनाकर पानी में घोलकर सेवन किया जा सकता है।

शर्बत की अन्य सामग्रियों सौंफ, बेल, खसखस, खरबूजे के बीज, बादाम, पिस्ता आदि के साथ पीसकर पिया जा सकता है।

Categories: आयुर्वेद एवं घरेलू उपचार

Tagged as: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply