अजवाइन- गैस और उससे उत्पन्न पेटदर्द में रामबाण 

गैस बनना और उसके कारण पेटदर्द होना सामान्य बात है। प्रायः हर व्यक्ति को इसका सामना करना पड़ता है। अनेक बार गैस घंटों तक नहीं ठीक होती और पेटदर्द होता रहता है। ऐसे में डाॅक्टर गैस कम करने वाली कुछ दवायें लेने की सलाह देते हैं।

ऐसी दवायें वे बहुत कष्ट होने पर लेने को कहते हैं। किसी भी प्रकार की अंग्रेजी दवा का सेवन अच्छा नहीं माना जाता क्योंकि उसके दुष्प्रभाव भी हैं। परन्तु अंतिम विकल्प वही होने पर डाॅक्टर कुछ दवाओं के सेवन की सलाह देते हैं।

जागरूक व्यक्ति स्वयं एलोपैथी दवाओं के सेवन के विषय में सजग रहते हैं। वे कोई भी ऐसा कदम किसी भी परिस्थिति में नहीं उठाना चाहते जिससे कि उन्हें किसी प्रकार की हानि की सम्भावना हो। ऐसे में घरेलू उपचार बहुत सहायक होते हैं। जो लोगों द्वारा परीक्षित और आयुर्वेद सम्मत भी हैं।

घरेलू उपायों में हमारी रसोईं और उसके मसालों का बहुत महत्व है। हममें से अनेक मसालों के उपयोग और औषधीय गुणों से परिचित होते हैं परन्तु कुछ लोग नहीं भी होते। तो कुछ को उनके उपयोग में संदेह होता है। उनको विश्वास नहीं होता।

गैस में अजवाइन का उपयोग कैसे करें :-

आप सभी ने घर के बड़ों को कहते सुना होगा कि अजवाइन गर्म तासीर की होती है इसलिये ग्रीष्म ऋतु में अधिक उपयोग नहीं करना चाहिए या आवश्यकता पड़ने पर बहुत कम मात्रा में उपयोग करना चाहिए। हो सकता है आपने इंटरनेट पर भी ऐसा पढ़ा हो।

यह बात सही है कि अजवाइन गर्म प्रकृति की होती है और इसका अत्यधिक सेवन नहीं करना चाहिए। बहुत अधिक गर्मी में भी इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। परन्तु गैस बनने पर अजवाइन का अल्प मात्रा अर्थात् 10-15 दाने का उपयोग सुरक्षित है।

अजवाइन के 10-15 दानों को एक गिलास पानी में उबालकर थोड़ा सा कालानमक डालकर गुनगुना ही पीने पर गैस की समस्या से छुटकारा मिलता है और पेटदर्द ठीक होता है। कोई दवा भी नहीं लेनी पड़ती और पाचन भी ठीक रहता है। ध्यान रहे जब गैस बने तभी अजवाइन और कालानमक का सेवन करें।

2 replies

Leave a Reply